Saturday, April 10, 2021

Safarnama by Janhavi Bhat.

The Blurb:

‘सफरनामा’ जान्हवी भट द्वारा रचित हिंदी कविताओं और उर्दू शायरी का एक अनूठा संग्रह है। इनमें से कई कविताओं की रचना विविध काव्य सम्मेलनों की पार्श्वभूमी पर की गयी थी। वहीं दूसरी ओर उर्दू शायरी का निर्माण महज़ उर्दू अल्फाज़ सीखने की मंशा से हुआ था। सोशल मीडिया के उपयोग द्वारा ऐसे अनगिनत प्रयोगों को अतुलनीय प्रोत्साहन मिलता रहा। और यह रचनाएँ काफी समय तक डायरी के पन्नों में दबी रही। इनको प्रकाशित करने की प्रेरणा जान्हवी भट को डॉ. शैलेंद्र गायकवाड से मिली जिन्होंने उनकी अनेक कविताओं को खूब सराहा। इस संग्रह में बखान है एक सफर का जो प्रेम, विरह, इंतज़ार, अपेक्षा एवं ज्ञान से भरपूर है। नवरसों का उपयोग काफी मात्रा में किया गया है। कविताओं में मार्मिकता है जो आजकल कम पढ़ने मिलती है। इनकी कविताएँ विविध दृष्टिकोणों को दर्शाती हैं। प्रकृति और उसके अनेक हिस्सों का भी प्रयोग इनमें किया गया है। अंग्रेज़ी कविता संग्रह के पशच्यात हिंदी काव्य जगत में ’सफरनामा’ जान्हवी का प्रथम पद है।.

My Take:

Safarnama is a book that has a beautiful and heart-touching collection of 69 poetries written by poetess Janhavi Bhat.

This is the debut book written by Janhavi Bhat and this book contains poems that will amaze and inspire you at the same time.

The poems are written in easy to read Hindi language with the deep emotions that are expressed beautifully. The lineup of the poetry is cleverly and very creatively done. 

The emotions, the rhyming, the easy flow, the unique yet similar rhythm, each poetry made this book a must to have book in your collection.

I am a huge fan of poetry is and reading them is one of my passions, I really enjoyed and loved the work of poetess and will definitely recommend others to read as well.

A quick and elegant book, so even if you are not sure about poetry, I m sure this book will spike your interest in them and you will love this book as well.

Overall an amazing and soulful collection of poems. So click here and read now Safarnama written and expressed by poetess Janhavi Bhat.

No comments:

Post a Comment

Do like and comment to show your support to the author.

Is Present Reality by Vipin Gupta.